Saturday, November 26th, 2022

PFI के बाद RSS पर बैन लगाने की मांग:कांग्रेस सांसद बोले- दोनों संगठनों का काम एक जैसा, फिर प्रतिबंध एक पर क्यों?

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर बैन लगने के बाद कांग्रेस सांसद के सुरेश ने विवादित बयान दिया है। सुरेश ने मांग की है कि PFI की तरह RSS पर भी बैन लगाया जाए। सुरेश ने आगे कहा- संघ भी पूरे देश में हिंदू संप्रदायिकता फैलाने का काम कर रही है, जो PFI की तरह ही है, इसलिए इसे भी बैन करो।

दिग्विजय कह चुके हैं- संघ बनाता है हिंदू आतंकी
कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह भी 2018 में RSS के खिलाफ विवादित बयान दे चुके हैं। झाबुआ में दिग्विजय सिंह ने कहा था कि अभी तक जितने भी हिंदू आतंकी सामने आए हैं, सब RSS से जुड़े रहे हैं। उन्होंने कहा था कि संघ के खिलाफ जांच की जाए और फिर कार्रवाई होनी चाहिए।

गिरिराज सिंह बोले- बाय बाय PFI
PFI पर बैन लगने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट किया है। सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा- बाय बाय PFI। वहीं असम के CM हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा- मैं भारत सरकार की ओर से PFI पर प्रतिबंध लगाने के फैसले का स्वागत करता हूं। सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए दृढ़ है कि भारत के खिलाफ विभाजनकारी या विघटनकारी डिजाइन से सख्ती से निपटा जाएगा।

संघ पर 3 बार लग चुका है बैन
भारत में आजादी के बाद 3 बार बैन लग चुका है। पहली बार 1948 में गांधी जी की हत्या के बाद बैन लगा था। यह प्रतिबंध करीब 2 सालों तक लगा रहा। संघ पर दूसरा प्रतिबंध 1975 में लागू आंतरिक आपातकाल के समय लगा। आपातकाल खत्म होने के बाद बैन हटा लिया गया।

वहीं तीसरी बार RSS पर 1992 में बाबरी विध्वंस के वक्त बैन लगाया गया। यह बैन करीब 6 महीने के लिए लगाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.