Thursday, November 24th, 2022

जनवरी-मार्च 22 के दौरान 3.5 लाख कर्मचारी बढ़े:5 बड़े क्षेत्रों से दोगुनी भर्ती अकेले आईटी सेक्टर में, हेल्थ में 52% महिलाएं

इस साल के शुरुआती 3 महीने आईटी के लिए सबसे बेहतरीन रहे हैं। इस दौरान 5 प्रमुख क्षेत्रों (स्वास्थ्य, परिवहन, व्यापार, वित्तीय सेवा व रेस्त्रां-निवास) में कुल मिलाकर उतनी भर्तियां नहीं की गईं, जितनी अकेले आईटी/बीपीओ में हुईं। जनवरी-मार्च 2022 के दौरान इन 5 क्षेत्रों में कुल 1.48 लाख कर्मचारी बढ़े हैं, जबकि अकेले आईटी/बीपीओ में ही 3.74 लाख कर्मचारी बढ़ गए हैं। वहीं, इस दौरान शिक्षा, मैन्युफैक्चरिंग व कंस्ट्रक्शन क्षेत्र में कर्मचारी घटे हैं। सबसे ज्यादा 1.44 लाख कर्मचारी मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में, 22 हजार से ज्यादा शिक्षा में और तकरीबन नौ हजार कंस्ट्रक्शन में कम हुए हैं।

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी त्रैमासिक रोजगार सर्वे में यह तस्वीर सामने आई है। इस सर्वे के मुताबिक, जनवरी-मार्च 2022 के दौरान आईटी/बीपीओ में 38.31 लाख कर्मचारी हो गए, जबकि अक्टूबर-दिसंबर 2021 के दौरान यह संख्या 34.56 लाख ही थी।

त्रैमासिक (जनवरी-मार्च 2022) रोजगार सर्वे के मुताबिक, स्वास्थ्य क्षेत्र में महिला कर्मचारियों की हिस्सेदारी 52% हो गई है यानी उन्होंने पुरुषों को पीछे छोड़ दिया है।

  • शिक्षा में 44%, वित्तीय सेवाओं में 41% और आईटी/बीपीओ में 36% हिस्सेदारी महिला कर्मचारियों की है।
  • अप्रैल-जून 2021 तिमाही के दौरान 9 प्रमुख क्षेत्रों के कुल कर्मचारियों में 29.30% महिलाएं थीं, जो जनवरी-मार्च 22 की तिमाही में 31.77% तक पहुंच गईं।
  • 500 से ज्यादा कर्मचारियों वाली कंपनियां सबसे ज्यादा करीब 40% हैं। जबकि करीब 37% कंपनियों में 100 से कम कर्मचारी हैं।

नियमित कर्मचारी रखने में शिक्षा और ट्रांसपोर्ट टॉप-3 में

  • आईटी/बीपीओ सेक्टर में नियमित कर्मचारी सबसे ज्यादा (94.69%) हैं। इस सूची में ट्रांसपोर्ट दूसरे (91.89%) और शिक्षा तीसरे (91.14%) नंबर पर है।
  • कंस्ट्रक्शन सेक्टर में सबसे ज्यादा (19.04%) कर्मचारी ठेके पर काम करते हैं। इस मामले में मैन्युफैक्चरिंग दूसरे (12.38%) और स्वास्थ्य तीसरे (9.08%) स्थान पर है।
  • कंस्ट्रक्शन में दिहाड़ी या पार्टटाइम काम करने वाले सबसे ज्यादा 5.69% हैं। मैन्युफैक्चरिंग दूसरे (3.96%) और वित्तीय सेवा सेक्टर तीसरे (3.6%) पर है।
  • सभी नौ सेक्टर में कुल 86.42% कर्मचारी नियमित व 8.66% ठेके पर काम करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.