Sunday, November 27th, 2022

दिल्ली-मुंबई समेत देशभर में इस्लामिक संगठन पर कार्रवाई:शाहीन बाग से 30 PFI कार्यकर्ता गिरफ्तार, MP से 22 और UP से 16 लोग पकड़े गए

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) और ईडी ने मंगलवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के कई ठिकानों पर छापेमारी की। दिल्ली के शाहीन बाग में NIA ने रेड करके PFI से जुड़े 30 लोगों को हिरासत में लिया है। शाहीन बाग में इस एक्शन के बाद केंद्रीय पुलिस फोर्स को तैनात कर दिया गया है। वहीं महाराष्ट्र से 15, कर्नाटक के कोलार से 6 और असम से 25 PFI कार्यकर्ताओं को पकड़ा गया है। NIA और 9 राज्यों की ATS एक साथ एक्शन में है।

यह PFI पर छापेमारी का दूसरा राउंड है। पहले राउंड में गिरफ्तार कार्यकर्ताओं से पूछताछ में खुलासा हुआ था कि इनका नेटवर्क पूरे देश में फैल चुका है। इनके मध्य प्रदेश सहित ज्यादातर राज्यों में सिमी से जुड़े होने के भी सबूत मिले। इसके बाद देशभर की इंटेलिजेंस और सुरक्षा एजेंसियों ने PFI नेटवर्क खंगालने की कवायद शुरू की। 20 राज्यों और 100 से ज्यादा शहरों में इनका सर्विलांस शुरू हुआ। पता चला कि PFI को खाड़ी देशों और बड़े मुस्लिम कारोबारियों से चंदा मिल रहा है।

दिल्ली: शाहीन बाग में छापा, 30 लोग हिरासत में

दिल्ली के शाहीन बाग में PFI पर एक्शन के बाद यहां CRPF की तैनाती कर दी गई है।

दिल्ली के शाहीन बाग में PFI पर एक्शन के बाद यहां CRPF की तैनाती कर दी गई है।

दिल्ली के शाहीन बाग में NIA की टीम ने मंगलवार सुबह छापा मारकर 30 लोगों को हिरासत में लिया है। इनमें से कुछ के बारे में NIA को पुख्ता सूचना मिली थी, जबकि कुछ को संदेह के आधार पर हिरासत में लिया गया है। इस एक्शन के दौरान पूरे शाहीन बाग में केंद्रीय सुरक्षा बल CRPF की तैनाती कर दी गई है। शाहीन बाग में ही CAA-NRC के खिलाफ कई महीने तक लगातार प्रदर्शन हुआ था।

उत्तर प्रदेश: ATS ने तीन शहरों से 16 को पकड़ा

उत्तर प्रदेश ATS ने मंगलवार सुबह गाजियाबाद, मेरठ और बुलंदशहर में छापेमारी कर 16 लोगों को उठाया है। गाजियाबाद से 12, मेरठ से 3 और बुलंदशहर से 1 संदिग्ध को उठाया है। ATS को इनपुट मिले हैं कि ये सभी PFI यानी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से जुड़े हुए हैं। ATS ने यह कार्रवाई सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात की है। ATS ने बुलंदशहर में पीएफआई से जुड़े वकील को भी उठाया है।

महाराष्ट्र: औरंगाबाद से 8, ठाणे से 4 गिरफ्तार
NIA महाराष्ट्र के औरंगाबाद, जालना, सोलापुर और परबनी में रेड कर रही है। सोलापुर से NIA ने PFI के एक मेंबर को गिरफ्तार किया है। यह PFI के ऑपरेशन्स में शामिल बताया गया है। NIA इसे दिल्ली ले जा रही है, जहां इससे आगे की पूछताछ की जाएगी। जांच एजेंसी ने मालेगांव से PFI चीफ मौलाना इरफान नदवी और एक्टिविस्ट इकबाल को गिरफ्तार किया है।

इधर महाराष्ट्र ATS ने औरंगाबाद से 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। वहीं, ठाणे क्राइम ब्रांच ने PIF से जुड़े 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें से दो लोगों को मुंब्रा से, एक को कल्याण से और एक आरोपी को भिवंडी से गिरफ्तार किया गया है। चारों ही PFI के एक्टिव मेंबर हैं। पुणे और मुंबई से भी PFI कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारियां हुई हैं।

मध्य प्रदेश: 8 जिलों से PFI के 22 संदिग्ध पकड़े गए

मध्यप्रदेश ATS ने सोमवार रात भोपाल, उज्जैन, इंदौर समेत 8 जिलों में PFI सदस्यों के ठिकानों पर रेड की है। जांच एजेंसी ने 22 संदिग्धों को हिरासत में लिया है। ATS को इन संदिग्धों की जानकारी पूर्व में पकड़े गए 4 आरोपियों की पूछताछ में मिली थी। ATS की कार्रवाई अभी जारी है। उज्जैन से PFI के तीन सदस्यों को उठाए जाने की खबर है।

​​​​​​असम: PFI से जुड़े 25 लोगों की गिरफ्तारी
असम के 7 जिलों में कार्रवाई के दौरान PFI के 25 कार्यकर्ताओं और नेताओं को गिरफ़्तार किया गया है। असम पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि कामरूप ग्रामीण से 5, गोलपाड़ा से 10, करीमगंज से 1, उदलगुड़ी से 1, दरंग से 1, धुबरी से 3, बारपेटा से 2 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। जांच एजेंसियों का एक्शन अभी जारी है।

गुजरात: ATS ने 8 लोगों को हिरासत में लिया
NIA और ED ने अहमदाबाद, बनासकांठा और नवसारी के पास से 8 लोगों को हिरासत में लिया है। पकड़े गए आरोपियों को ATS ऑफिस लाया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भारत में PFI के एक्टिविस्ट पाकिस्तान के PFI संगठन से जुड़े थे। सोशल मीडिया पर निगरानी के बाद गुजरात सहित कई राज्यों के कनेक्शन पता चले थे। NIA इस केस की जांच कर रही थी।

इधर गुजरात ATS ने सोशल मीडिया पर देश विरोधी पोस्ट के मामले में सोशल मीडिया ग्रुप्स से जुड़े मामले में कार्रवाई की, जिसके बाद 8 लोगों को हिरासत में लिया गया। ये लोग कुछ सोशल मीडिया ग्रुप्स से जुड़े हुए थे और वहां आपत्तिजनक कंटेंट पोस्ट किया जा रहा था।

16 साल का PFI यानि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया

PFI(पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) 23 राज्यों तक। दावा- सोशल वर्क का, लेकिन देश के अलग-अलग हिस्सों की रिपोर्ट्स बताती हैं कि हत्या से लेकर दंगों तक नाम आया। सीएए प्रोटेस्ट के दौरान शाहीनबाग-जहांगीरपुरी से उठी हिंसा यूपी, राजस्थान, मध्य प्रदेश और बिहार तक पहुंची।

​​​​PFI ने सीक्रेट डॉक्यूमेंट्स में लिखा- 2047 तक भारत को इस्लामिक राष्ट्र बनाना है

पकड़े गए लोगों के पास से मिले दस्तावेज बयां कर रहे थे कि वो हिन्दुस्तान की सत्ता हासिल करना चाहते हैं। इसमें लिखा मिला कि 2047 में जब देश आजादी के 100 साल मना रहा होगा, तब तक भारत को इस्लामिक राष्ट्र बनाना है। इस दस्तावेज में ये भी लिखा है कि 10% मुस्लिम भी साथ दें, तो कायरों को घुटनों पर ला देंगे। इसके लिए इनके पास 4 लेयर का पूरा प्लान है। बिहार पुलिस ने 11 जुलाई को बिहार शरीफ में अतहर परवेज को गिरफ्तार किया, तो पता चला कि वह पहले प्रतिबंधित संगठन स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) का सदस्य रहा है। उसने वहीं किराए के मकान में कई राज्यों से आए लोगों को ट्रेनिंग भी दी है।

PFI को खाड़ी देशों और भारत के बड़े मुस्लिम कारोबारियों से मिल रहा था चंदा
ED ने खुलासा किया है कि PFI के हजारों सदस्य खाड़ी देशों में एक्टिव हैं, जो संगठन के लिए धन जुटाने का काम करते हैं। इन पैसों को अबू धाबी के एक रेस्तरां से मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए भारत भेजा जाता था। PFI ने मनी लॉड्रिंग के जरिए पिछले साल 120 करोड़ रुपए जुटाए हैं। PFI का दावा था कि ये पैसे देशभर में दान से जुटाए गए हैं, जबकि ED की जांच में पता चला कि संगठन ने फर्जी दान रसीद बनाकर भारत में मनी लॉड्रिंग से धन जुटाया और अधिकारियों को गुमराह किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.