रमणरेती आश्रम मथुरा

                      

आज मै राहुल आपको मथुरा के गोकुल में स्थित आश्रम के बारे में बताना चाहता हूँ | ये आश्रम पूज्य गुरूजी शरणानंद महाराजजी का है | इस स्थान पर रमण बिहारी जी का मंदिर है।ऐसा कहते है कि संत रसखान ने यहां तपस्या की थी। यहां इनकी समाधि भी बनी हुई है। यहाँ पर अत्यधिक मात्रा में जमुनाजी की रेत मिलती है जिसमे कोई कंकड़ नहीं मिलता है और यहाँ पर आपको नंगे पैर ही चलना पड़ता है | इस पावन भूमि पर हिरण,मोर,खरगोश,गाये आदि अनेक जंतु आपको घूमते हुए मिल जाएंगे | इस पावन भूमि पर आपको कई जगह कदंब और पीपल के वृक्ष देखने को मिल जाएंगे | यहाँ आने वाले भक्तो का मानना है की इस पावन मिट्टी में प्रभु श्री कृष्णा अपने ग्वाल बालो के साथ गो चराये करते थे और क्रीड़ा किया करते थे |

आपको  MATHURA VRINDAVAN TEMPLE,VRINDAVAN DHAM,MATHURA DARSHAN की जानकारी  मिलेगी यही mybrij.in से |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *