प्रभु का वन निधिवन वृन्दावन

nidhivan temple main gatenidhivan temple main mandirnidhivan temple inside look

प्रभु का वन निधिवन वृन्दावन

नमस्कार मेरे मित्रो आज मै राहुल अपने बृज से MATHURA VRINDAVAN TEMPLE की श्रंखला में आपको जिस जगह के बारे में बताने जा रहा हूँ वो बहुत ही रहस्यमयी और अलौकिक है और इस स्थान को निधिवन के नाम से जाना जाता है जो की वृन्दावन में पड़ता है |यहाँ की ऐसी मान्यता है की रात मै यहाँ प्रभु श्री कृष्णा अपनी गोपियों के साथ लीलाएँ करते है |

मंदिर में प्रवेश करते ही आपको एक अजीब सी सहानुभूति का अनुभव होता है |जैसे मंदिर के चारो दिशाओं में  अन्य घर बने हुए है किन्तु मंदिर में आते ही ऐसा लगता है जैसे सब कुछ लाखो साल पुराना है जैसे यहाँ पेड़-पौधे, मंदिर की बनावट आदि बड़ी ही पौराणिक है |यहाँ आपको बहुत अधिक बंदर विचरण करते नज़र आ जाएंगे किन्तु ये किसी भी व्यक्ति से कुछ नहीं कहते |

अब आप सोच रहे होंगे की इसमें अजीब क्या है तो सुनिये प्राकृतिक तौर पर पेड़ की शाखा उपर की ओर बढ़ती है किन्तु यहाँ  ये शाखाएँ जमीन की तरफ बढ़ती है और ऐसा कहाँ जाता है कि यहाँ जो तुलसी के पेड़ है वो जोड़ो में है और रात को वो सभी गोपियों का रूप लेकर प्रभु श्री कृष्णा के साथ लीलाएँ करती है |

मंदिर के आसपास जो भी मकान है उनमे कोई खिड़की नहीं है |जो भी जीव-जन्तु दिनभर मंदिर में विचरण करते है शाम होते ही अपने आप मंदिर से चले जाते है |

शाम होते ही आरती पश्चात् ये मंदिर बंद कर दिया जाता है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि जिस किसी ने भी रात के समय इस मंदिर में रुककर प्रभु के उस रहस्य को जानने का प्रयास किया वो अपना मानसिक संतुलन खो बैठा ऐसे कुछ अनसुने-अनकहे किस्से यहाँ के लोगो से आपको सुनने को मिल जाएंगे |

मंदिर में अन्य दार्शनिक स्थल रंग महल,वंशी चोर राधा-रानी का मंदिर,विशाखा कुंड,स्वामी हरिदास महाराज की समाधि आदि है |

तो यदि आप बृज क्षेत्र में भ्रमण करने आये तो प्रभु के इस पौराणिक मंदिर में जरूर आये |

आप इसी तरह से पूरे VRINDAVAN DHAM के दर्शनीय स्थलों की जानकारी ले और  MATHURA DARSHAN का आनंद प्राप्त करे mybrij.in से और कृपया अपने घर से ऑनलाइन खरीदारी के लिए हमारे affiliate links का उपयोग जरुर करे |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *