गोकुल और महावन

नमस्कार मित्रो आज मै राहुल बृज क्षेत्र के अपने श्री कृष्णा के गाँव गोकुल-महावन के बारे में बताऊंगा |गोकुल मथुरा से लगभग 15 km की दूरी पर है और महावन गोकुल से 2-3 km और आगे है |लोग महावन को पुराना गोकुल भी बोलते है|महावन में आपको रमणरेती आश्रम,चौरासी खम्भों का मन्दिर, नन्देश्वर महादेव, मथुरा नाथ, द्वारिका नाथ आदि मंदिर देखने को मिल जायेंगे |

अब चलिये मै आपको गोकुल की महत्वता बताता हूँ |ऐसा कहा जाता है कि गोकुल में ही श्री कृष्णा का पालन पोषण यशोदा मैया और नंद बाबा ने किया |एक पौराणिक कथा के मुताबिक एक भविष्यवाणी हुई थी जिसमे ये कहा गया की कंस का वध देवकी मैया की संतान के हाथो होना है|कंस श्री कृष्णा के मामा और देवकी मैया के भाई थे |ऐसी भविष्यवाणी सुनकर कंस ने वासुदेव और देवकी मैया को कैद कर लिया और उनके सारे बच्चो की हत्या करने लगा तब श्री कृष्णा को बचाने के लिये वासुदेव उन को यमुना नदी पार करके गोकुल में नंद बाबा के घर छोड़ आये |तब से यशोदा मैया और नंद बाबा ने ही उनका पालन-पोषण किया |गोकुल में श्री कृष्णा ने  तना, शकटासुर, तृणावर्त आदि असुरों का वध किया |गोकुल में ही रोहिणी मैया ने बलरामजी को जन्म दिया |

गोकुल में ही बचपन में दोनों भैया ने अपनी लीलाओं से पूरे गोकुलवासियो को सुख का अनुभव दिया |नन्हे-नन्हे पाँव से भागते हुए माखन-मिश्री चुराना,गोपियों की मटकी फोड़ना आदि अनेक तरह की  लीलाये करते थे |और हां श्री कृष्णा की बांसुरी की धुन में गोकुल की गोपियाँ ही क्या अपितु जीव-जन्तु भी मंत्रमुग्ध हो जाते थे |

आज देश-विदेश से लाखो  श्री कृष्णा भक्त  गोकुल-महावन आते है |आप यहाँ पर श्रीठाकुरानीघाट,गोविन्द घाट,गोकुलनाथजी का बाग,
बाजनटीला,सिंहपौड़ी,यशोदाघाट,श्रीविट्ठलनाथ जी का मन्दिर,श्रीमदनमोहन जी का मन्दिर,श्रीमाधवराय जी का मन्दिर,श्रीगोकुलनाथ जी का मन्दिर,श्री नवनीत प्रिया जी का मन्दिर,श्रीद्वारकानाथजी का मन्दिर,ब्रह्मछोकरा वृक्ष,श्रीगोकुलचन्द्रमाजी का मन्दिर,श्रीमथुरानाथजी का मन्दिर आदि स्थानों पर भ्रमण कर सकते है |

आप गोकुल अपने निजी वाहन से सीधे जा सकते हो और रेलमार्ग के द्वारा मथुरा आकर किराये की गाड़ी से पहुँच सकते हो |

मै राहुल आपको बृज से और भी  MATHURA VRINDAVAN TEMPLE,VRINDAVAN DHAM,संपूर्णMATHURA DARSHANकराता रहूँगा mybrij.in पर और हमारे affiliate links अपनी ऑनलाइन शॉपिंग के लिये जरूर उपयोग करे |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *